Tuesday, 22 March 2011

जब प्यास लगी हो

चुल्लू भर, पानी झरने का हो,
या, अन्जुलि में हो, गन्गा- जल
                   या, कुए की जगत पर, कहीं
                   गोरी की छलकी गागर हो
                                 या, बारिश की चार बूदों का अम्रित ही
                                  तर कर जाये-- चतके होंठों को
या, धधकते- मरु का विस्तार गहन
मीलों तक, नप जाय- मरुधान तलक
             या, किसी अपरिचित के दरवाजे तक जा
              अन्जुलि में पा जाऊं, घूंट -चार-दो
                                      अन्तर नही-उस  तृप्ति का
                                      कब, कहां और किस रूप में
                                       मिल जाये हमें
                                       जब प्यास लगी हो---
                                                                                 मन के -- मनके
               
                                                                                                    

8 comments:

  1. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  2. dubne ke liye bhi kafi hai chullu bhar pani...pyase ko mil jaye to baat hi kya hai...ati sunder rachna...

    ReplyDelete
  3. खूबसुरत प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर एवं गहन प्रस्तुति!!

    ReplyDelete
  5. वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

    ReplyDelete
  6. आपका ब्लॉग पसंद आया....इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी......आपको फॉलो कर रहा हूँ |

    कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-

    ReplyDelete