Friday, 18 March 2011

एक दर्द- सुनामी का

तुम कौन हो
            नही -- मालूम

पर तुम मां हो,बेटी हो
बहन हो या हो हमसफर

उनकी,जो छोड़, तुम्हे चले गये
दे कर दर्द का सागर-आंखों में

अब छलका-कि-छलका,
बन सुनामी -- सा

                         "मन के - मनके"
                               उमा

4 comments:

  1. हमारी भी संवेदनायें आपके माध्यम से।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही संवेदनशील लिखा है ...
    जाने वाले तो हमेशा दर्द दे कर जाते हैं ... साथ में सहने का संबल भी ....

    ReplyDelete
  3. रंगों की चलाई है हमने पिचकारी
    रहे ने कोई झोली खाली
    हमने हर झोली रंगने की
    आज है कसम खाली

    होली की रंग भरी शुभकामनाएँ

    ReplyDelete