Wednesday, 31 August 2011

एक अह्सास-जीवन का,जन्म लेने का,जन्म देने का

     मां की कोख में,बीज-रूप में,जीवन-स्पंदन,फिर वही ईश्वर की परिकल्पना है,जिसे हम उस मृग की तरह ढूंढते हैं,जंगल-जंगल भटकते हैं,जो अपने सिर में छुपी कस्तूरी की महक के पीछे भटकता
रहता है.
जब पहली बार मां की कोख इस स्वर्गीय-स्पंदन के अह्सासों से भर जाती है,तो विचार बनने बंद हो जाते हैं,सब कुछ कहना चाह कर भी,कुछ नहीं कह पाते हैं,व्यक्त,अव्यक्त हो जाता है और,अव्यक्त,व्यक्त हो जाता है.अह्सास पहेली सी बन जाती है,विराट हो जाता है हर अह्सास.
   एक संपूर्ण जीवन,इस छोटे से स्पंदन में कैसे समा गया,कहां से आ गया,वह जीवन जो,धरती परअपना पहला कदम रखते ही ना जाने दुनिया की चाल को कैसे मोड दे? इसी स्पंदन में यहां संत,बुद्ध,महावीर,कबीर,महायोद्धा सिकंदर,अकबर,शाहेजहां जिन्होंने जीवन की परिभाषाएं रचीं. दूसरी ओर ऐसे-ऐसे,धूर्त-पापी भी,इस स्पंदन में समां गए जिन्होंने मानवता को ज़लील किया और इसी मानवता का नाश भी किया.
    फिर,एक बार उस ईश्वर के आगे नतमस्तक होना चाहिए कि एक बूंद,एक स्पंदन में उसने अपनी कलाकारी दिखा दी,अपनी माया फैला दी.

Wednesday, 24 August 2011

एक अह्सास-जीवन का,जन्म लेने का,जन्म देने का

जीवन की उपजाउ धरती पर पडा जीवन रूपी नन्हा सा बीज , जब धरती मां की कोख मे पहली बार कुलबुलाता है तो वह अहसास है जिसे रुपी पृथ्वी पर हर वह जीव जीवन देने की क्षमता रखता है जिसे वह ईश्वर प्रद्त्त वरदान के रूप मे पाता है एसा अहसास जो शब्दों से परे है , जिसने भी पाया निहाल हो गया .
कभी कभी , धरती मे दबा बीज जब कुछ घन्टे , कुछ दिन बाद अपने अन्दर छिपी जीवन के सम्भावनाओ के पंखो को खोलने लगत है तो अचानक जाने कहां से चमतकारित करने वाली ,नन्ही- नन्ही , हरी- हरी कोमल सी दो पक्तियां बीज मे से फूट पडती है मन अजीव खुशीयॊ मे भर जाता है अरे! ये कह से आ गयी , अनायास ही मुंह से निकल पडता है .
और ! सामने ईश्वर की छाया मे दिखने लगती है . वह ईश्वर , वह भगबान , वह आधार जिसे सुनने , जानने , देखने व पाने के लिये हम भटकते रहते है अन्धे की तरह .
वह अहसास् हमे थोडी देर ठहर के महसूस करना चाहिये भागना तो कब्र तक है लेकिन ईश्वर  के दर्शन कर लें ईश्वर को छु ले और उसे पा तो ले .
एक अहसास बीज को मिटटी मे दबाने का , उसे सीचने का उसे सहेजने का और जीवन के स्पंदन को छूने का.
जरुरी नही जीवन को छूने के लिये बीज को ही बोया जाये , जहां जीवन की सम्भावनाएं हो तो उन सम्भावनाओं को हकीकती अहसास देना ही इस अहसास को पा लेने के समान है.
इसके विपरीत ,दूसरा अहसास जीवन की सम्भावनाओ को असंम्भव बनाना है यदि हमारे पास साधन है , वक्त है , योग्यता है--  इन संम्भावनाओ को असम्भव नही बनाना चाहिये.
एक बीज,जिसे हम नम मिट्टी में दबा देते हैं,उसमें फलदार पेड होने की क्षमता छुपी है,जो हमारे एक अह्सास से दुबारा हजारों बीजों के माध्यम से जीवन की हजारों संभावनाओं को, पृथ्वी पर
हमारे लिये बिखेर देगा.
     अह्सास का दूसरा पक्ष यह भी हो सकता है—जमीन में अंकुरित होते हुए बीज को निर्दयता से,
बाहर निकाल दें और इस तरह एक बीज की हत्या के अह्सास ने हजारों बीजों के जीवन के अह्सासों
को कुचल दिया.
      ईश्वर ने हमें ’अह्सास’ दिये हैं,केवल शुद्ध रूप में,पवित्र रूप में—यह तो मनुष्य की मानसिकता है,उस अह्सास को वह किस रूप में स्वीकार करे या विकृत करे.
     मां की कोख में,बीज-रूप में,जीवन-स्पंदन,फिर वही ईश्वर की परिकल्पना है,जिसे हम उस मृग की तरह ढूंढते हैं,जंगल-जंगल भटकते हैं,जो अपने सिर में छुपी कस्तूरी की महक के पीछे भटकता
रहता है.    



अह्सास

चार अक्ष्ररों के समूह का एक शब्द—जो मनुष्य-जीवन के भावात्मक संसार का आधार है.
अहसास-शब्द ही वह शब्द है, जो मनुष्य के भावात्मक संसार को समेटने की क्षमता रखता है.
    मेरे विचार से, यह शब्द हिन्दी भाषा की शब्दावली का नही है,इसे हमने उर्दू भाषा की शब्दावली 
से तोहफ़े के रूप में लिया है.वैसे तो हमारी रोज़मर्रा की बोलचाली भाषा में न जाने कितने शब्द उर्दू,
फारसी के शामिल हो गये हैं,जिन्हें अब हिदी भाषा से अलग करके समझना भी संभव नहीं है.
   एक और तथ्य है,जो मैं अनुभव कर पाती हूं, कि ज़िंदगी के कुछ रूप,कुछ खास शब्दों के माध्यम से ही समझ आते हैं, तब उन पर किसी खास भाषा का अधिकार नहीं रह जाता है.
सारी सीमाएं विलीन हो जाती हैं,बस,अह्सास सिर्फ़ अह्सास ही होता है,जैसे मुंह में घुली मिश्री की मिठास की तरह.
  अह्सास का दायरा बहुत बडा होता है,जिसमें रसों के नवरंग,रंगों के नवरंग,नौं कलाएं जीने की,नौं ढंग मरने के हो जाते हैं,क्षितिज की तरह जहां सीमाएं,सीमाएं न रह कर,क्षितिज हो जाती हैं,बस.
   अह्सासों से परे जीना संभव नहीं है और जब संभव नहीं है, तो सही अह्सासों के साथ जीने में
बुराई क्या है?
ईश्वर ने अह्सासों का पिटारा हमारे सामने खोल दिया है,अब चुनाव करने की जिम्मेदारी हमारी ही है.

Sunday, 21 August 2011

अनुभूतियां

तुमने,वह अह्सास तो दिया होता
जिसकी छाया की छांव तले
आज की तपिश को
ठंडा कर पाती------
                और,अह्सासों की बारिशों की
                नन्हीं-नन्हीं,बूंदों से----------
                क्लांत-भ्रांत पथिक के----
                पथ को ठंडा कर पाती
पर, तुम गये तो------
यूं गये कि,मेरी सांसों को
मेरी आसों को—बेआस कर गये
बे-सांस कर गये-------
                 काश! जब हम दो
                 हमराह होकर चल रहे थे
                 तो, अपने अह्सासों की
                 कोई महक तो बिखेर देते
                 अपने स्पर्शों की गर्माहट को
                 मेरे हाथों पर दे जाते-----
  तो, कुछ तो होने का अह्सास लिये

Saturday, 20 August 2011

Thursday, 18 August 2011

वो,रोज़ आता रहा,सपनों में,मेरे

वो,रोज़ आता रहा,सपनों में,मेरे
पूछता रहा,चाहिये और क्या तुझे
                         हर बार कहती रही--------------
                         अभी एक सपना और तो देख लूं
फिर,आ जाना कभी----------
जब,सपना मेरा चुक जाएगा,तो कह दूंगी तुम्हें
                   वो,मुस्करा कर,दबे पांव उठ गया
                   और,मैं लेटी रही,मुदीं पलकों में,सपने लिये .               

                                            मन के-मनके


Monday, 15 August 2011

मैं,अभी और पी भी लूं-----

मैं अभी और पी भी लूं
मैं,अभी और जी भी लूं
                     कल के मेह्खानों में
                     लुढक्रे--------ज़ामों में
                                       फ़कत,दो बूंद ही बाकी
                                        अपने पोरों पर---थामें उनको
                                                            जब भी लाती हूं----होठों तक
                                                            मगर,कितने सवालों के ज़वाब
                                                                       बाकी हैं अभी
कहीं,अहंकारों की दग्ध शिलाओं पर
खिलने के मौसम में-----भी
          कलियां,बेबस सी-----हो
          देतीं हैं,खामोश आहुतियां क्यों
                           कितने जीवन,झरनों से बह्कर
                            बेआवाज़हो ,हो जाते हैं,खारे समुंदर से क्यों
कितनी भूखें,पेटों से चिपकी
बडे-बडे पेटों में,इतनी बडी हो लाती क्यों
                      कि,अपने ही वज़ूद की,बेबसी
                      आंखों में,नंगी सी हो जाती क्यों
संभावनाओं के कत्ल,पुन्य से
हर घर कोनों में,पूजा से,हो जाते,क्यों
                 कितनी बेटियां,बुदबुदाते होठों से
                 सपनों को पी जाती,आंसुओं में क्यो
                                       हर मंदिर की ड्योढी पर
                                       खंडहरी चबूतरों पर बैठी
                                                           रीतती ज़िंदगियां,कितनी
                                                           दिये की बत्ती सी,बीतती जाती क्यों
                                                            
खबरों में,झूठ बोलते क्यों
हर झूठ,पगा सा,स्वार्थों में,क्यों
                                                                  मैं,अभी,और पी भी लूं
                                                                  मैं,अभी,और जी भी लूं
एक खबर का इंतज़ार,फिर भी है
जो,उम्मीदों की किरणों सी हो
                     आंख खुले तो,दमकता आंगन हो
                     आंगन में,जीवन की सोंधीं खुशबू हो
                                           दरवाजे पर दस्तक हो,आंगुतक की दस्तक हो
                                            हाथॊ मे चाय,प्यालियों में,कुनकुनी हो
                                                                       कंधों पर हाथ हो भाई का
                                                                        मां के आंचल से पुछी बूंदे पसीने की हो
हर हक का हकदारी हो
हर फ़र्ज़ की पाती,पूरी हो
                    पेटों में,भूख ना धधकती हो
                    आंखों में,कल के सपने हो
                                          सडकों पर,ना फैला हो,आवारापन
                                          आवाजों में,महक  कच्चे गीतों की हो
हर आंख में,सब्र का दरिया हो
हर सांस जो छूती हो,अपनी सी हो
                                                                                      तो,
                                                            मैं,अभी और,पी भी लूं
                                                            मैं,अभी और,जी भी लूं
                                                                                                              मन के-मनके
                        
    

 
                                                                 
                                                                           
                                                                                 
                                       

Wednesday, 10 August 2011

बिख्र्रे थे-----स्वर्ग

बिन बोल बिकहे
                                       स्पर्श ना
  स्निग्ध-स्नेह की छटा निराली
·        मन को इन्द्रधनुष सा छू जाती थी
  जब,कच्चे धागे की गांठ अनूठी
  भय्या के आशीषी हाथों पर बंध जाती थी
                                   एक रुप्पैय्या,धर हाथों पर
                                   भय्या,लाखों का वादा करते थे
                                   हाथों से ले,रख माथे पर
                                   जीजी भी लाखों की हो जाती थीं
                                   आंखों में झलके आंसू
                                   स्नेह-अटूट की कथा कह गए
                                   बांध जिन्हे ना पाया शब्दों का
                                   आंसू बन लेखनी,निस्वार्थ-स्नेह-अटूट का
                                   ग्रंथ,लिख गए
बिखरे थे----स्वर्ग
चारों-------तरफ
                                  अब,सावन तो आते हैं
                                  पर,बिन सनूने-झूले के
                                  घर-घर,दूध सिवैयां बन जाती हैं
                                  पर,बिन घेवर-पूए-बूरे के
                कच्चे-धागों की,पक्की गांठ
                खोल गई राखी,सोने-चांदी की
                अब,राखी के भी मोल हो गए
                भय्या भी,अधिक व्वस्त हो गए
                जीजी भी,चतुर-सुजान हो गईं
                राखी की कीमत की पहचान हो गई
                                         आशीषों के अकाल पड गए
                                         स्निग्ध-स्नेह-अटूट,स्वप्न हो गए
                अम्मा की आंखों में,मजबूरी के आंसू हैं
                आंखें झुक गईं बाबा की,हाथो की मुठ्ठी खाली है
                जेबों में गड्डी नोटों की,खुशियां खरीद नहीं पाती हैं
                बाजारों में दुकान-दबदबी,फीकी सी खीर हो गई
                जीवन की उठा-पटक में,रोटी ही जुट पाती है
                                         मन,भारी-भारी सा रहता है
                                         याद बहुत,त्योहारों की आती है
               तब,त्योहारों की उम्र बडी थी
               दस दिन पहले,दस दिन पीछे वाले होते थे
               एक विदा ना हो पाता था
               दूजे की तैयारी होने लगती थी
बिखरे थे-----स्वर्ग
चारों----------तरफ         

Friday, 5 August 2011

कबिरा-दो पाटन के बीच साबुत ना बचा कोय

मौसम में ठंडक थी,मन बैचेन सा था. सोचा कुछ देर पार्क में घूम आऊं.
कभी-कभी लगता है,चलते-चलते सब कुछ ठहर सा गया है,इसे मन कहूं या मन की चाल.
पर्क में,बच्चों के कोलाहल से वातावरण हलका-हलका सा लगा. दूसरी ओर जिंदगी के हर पडाव ठहरे हुए से दस-पांच के झुंड में बैठे लोग अपने को हलका करने की कोशिश में लगे हुए थे.
तभी,एक महिला पैरो में रबड की चप्पलें फटकारती सी आकर मेरे पास बैठ गईं. अचानक हम दौनों की नजरें मिली और बेवजह भटक भी गईं.दुबारा फिर नज़रें मिली और दौनों ने एकसाथ एक-दूसरे पर प्रश्न जड दिया,’ आज,मौसम कुछ ठंडा है, बिना किसी को देखे.
अब मेरी बारी थी बात का सिलसिला आगे ले जाने की सो पूछ लिया,’ कितने बच्चेम हैं,कितने बडे हैं,किस क्लास में पढ रहें हैं?,
कुछ देर बाद महिला को देखा तो उत्तर देते-देते अपने-आप को स्वाभाविक दिखाने की भरपूर कोशिश में लगी हुईं थीं.
इस बार मैने भी कोशिश की उन्हें ध्यान से देखने की.साधारण चेहरे-मोहरे वाली महिला,जो कुछ कहने से पहले बार-बार अपने-आप को सभांलने की कोशिश करती थीं और इस कोशिश में उनके
होंठ कांपने लगते थे.
जब भी वे कुछ कहतीं,आंखों में निहीरता का भाव उभर-उभर आता था.
कहने लगीं,दो बेटे हैं,बडे ने दसवीं कर ली हैं,छोटा पांचवीं में है,दिमाग से कुछ कमजोर है.
सोच रही थी,अब उठा जाय,कुछ काम हैं जो छोडे नहीं जा सकते, चाहे मन थक जाए या कुछ रुकना भी चाहे.
तभी,उक्त महिला के होंठ फडफडाए,बोलीं, ’ मेरे पति के ऊपर भी किसी ने कुछ करवा दिया है,मुझसे बात नहीं करते हैं,
औपचारिकतावश, पूछ लिया,’ शराब तो नहीम पीते?,
’नहीं,कभी-कभी मार-पीट तो कर ही देते हैं, मैं तो चुप ही रहती हूं,तमाशा दिखाने से क्या होगा.,
सोचा,सारी दुनियादारी महिला के हिस्से में आ गई है.
घर लौटते समय,मैं सोच रही थी,क्या मजबूरी है साथ रहने की,एक छत के नीचे साल-दर गुजारने की,विडम्बना,ना अपनाते बनता है ना छोडते बनता है.
खुद ही कारावास के लोहे के दरवाजे खोले और बैठ गए बंद करके.
किसे दरकार है कि दरवाजा खुले और आसमान देखें.
वे,अचानक उठीं,साडी को ठीक करके,रबड की चप्पलें फटकारती हुईं चल दीं
कितना भारी वज़ूद था------हाय रे,कबिरा,दो पाटों के बीच में,साबुत बचा न कोय.
                                                            

Tuesday, 2 August 2011

कल –आज- कल

कल – आज – कल
की धराओं में
हर पल की धारा
त्रिवेणी है
          निज हर पल
          इसमे डुबकी ही
          जीवन के महाकुम्भ मे
          जीवन – तरनी है
शंकाओं ’औ ’ बोध अपराधो के
मलिन न कर दे , इसके तट को
मधु – घूंट समझ , इस जीवन को
तृप्त – अमर होकर , मिट ले हम
            कहां से आये, और
            कहां जाना है {हमको}
            नही टटोलना इन प्रश्नो को
            नित्य-निरुत्तर ही रहने दे (इन प्रश्नो को)
            उनके ही अर्थो मे
हम तो, बिसरती गाथाओ मे
ओझल हो जायेगे, धीरे- धीरे
केवल स्मृति – चिन्हो मे अंकित होकर
ज्यों , नित्य निरन्तर जाने वाले पल

                        मन के - मनके