Wednesday, 5 October 2011

सूरज का-एक कतरा-सपना सा

शीशे की खिडकी से,सरक
निःशब्द कदमों से चल
             सूरज का,एक कतरा
             मां के आंचल सा, मुझको ढक गया
कभी ऐसा लगा कि
क्लांत-थका सा चूर होकर
               लुढकते पैरों से ,नन्हा सा चल
                मां के आंचल से,मुंह ढक कर,सो गया
कुछ दिन हुए------
   दहकता आग का गोला
   आसमान से,नीचे उतर
                         घर के,कोने-कोने को
                         कर रहा था,भस्म
   उनींदी सी पडी, भविष्य की गोद में
   आज,पहली बार------मैने
                        धधकते------आज को
                        अपनी गोद में,भर लिया
   आग की लपटों से,घिरा
   एक सूरज, बीते दिनों का
                       भस्म करने को,बेताब था
                       हज़ारों मील,पीछे रह गया----
                                                    मन के--मनके         
  

12 comments:

  1. स्वप्नों में वह चमक बनी रहे।

    ReplyDelete
  2. Happy Dushara.
    VIJAYA-DASHMI KEE SHUBHKAMNAYEN.
    --
    MOBILE SE TIPPANI DE RAHA HU.
    Net nahi chal raha hai.

    ReplyDelete
  3. बहुत सारे उमड़ते घुमड़ते भावों की साथ सुन्दर छाया वादी पंक्तियाँ....

    विजयादशमी की सादर बधाईयाँ....

    ReplyDelete
  4. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. भावों की गहरी अभिव्यक्ति है ...
    विजय दशमी की हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete
  6. खुबसूरत भाव भरी कविता
    विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. gahan abhivyakti..bijay dashmi ki hardik shubhkamnaon ke sath

    ReplyDelete
  8. bahut khubsurat bhavo se rachi ye rachna....man ke bhav...jhlakte hai

    ReplyDelete
  9. जिसने वर्तमान में जीना सीख लिया उसके लिए जिंदगी आसान हो जाती है।

    ReplyDelete
  10. वैसे तो आपकी चर्चा हर जगह हैं फ़िर भी कोशिश की है देखियेगा आपकी उत्कृष्ट रचना के साथ प्रस्तुत है आज कीनई पुरानी हलचल

    ReplyDelete
  11. jindigi ke geet gati kavita....badhiya

    ReplyDelete
  12. वर्तमान का ही महत्त्व है!

    ReplyDelete