Wednesday, 20 June 2012

तू,हर तरफ,बिखरा पडा है---


कोयल की—कूह-कूह

मोर का सतरंगी आंचल

            हवा के,झोकों में,झूमती डालियां

            गिलहरियों की—बेवजह,भाग-दौड

ठंडे पानी के, छींटे देते

परवज़ों के पंख----

             आम की डाली से-----

             मोती से लटकते,अधपके आम

मेंहदी से फूटती,बौराई महक

पीपल के पत्तों की सरसराहटें

             पेडों के झुरमुट से---

             आती,सीटियां—झींगुरों की

कभी,बन,उमस का ताप,तू

तो, पसीने को सोखती,ठंडी बयार

             बडी सी,बूंद बन,टपकी कभी

             सौगात तेरी,बुझाती,धरती की प्यास

कभी,इंतजार बन,आमों के पकने का तू

तो कभी,पतझड की बिछ गई,आंगन में,बिसात

              आज,निकली थी,बंद कमरे से

              बहुत दिनों के बाद मैं---

              तू,कहीं,खो गया था,

             या,भूल मैं ही गई थी

                           पर,जब, ढूंढा तुझे,तो
                           हर- तरफ,तू, बिखरा पडा था----

8 comments:

  1. बहुत सुन्दर भावप्रणव रचना!
    इसको साझा करने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. सच कहा आपने ...सब तरफ उसके ही नज़ारे बिखरे पड़े हैं

    ReplyDelete
  4. .

    तू,कहीं,खो गया था,

    या,भूल मैं ही गई थी

    पर,जब, ढूंढा तुझे,तो
    हर- तरफ,तू, बिखरा पडा था----

    waah..bahut sundar..

    .

    ReplyDelete
  5. Sach hai dekhne wali nazar chahiye ... Vo to har Taraf Bikhra huva hai ... Anupam bhav Sanjay hain is rachna mein ...

    ReplyDelete
  6. Apna spem Box dekhne ... Meri Pahli tippani Vaha hogi ... Yaha nazar nahi AA rahi ....

    ReplyDelete
  7. बहुत उम्दा...

    ReplyDelete
  8. http://bulletinofblog.blogspot.in/2012/06/blog-post_696.html

    ReplyDelete