Thursday, 11 September 2014

वर्ष दो वर्ष की ही तो बात है




                   वर्ष दो वर्ष की ही तो बात है
           ये जो थाली से कौर
          कौवों को डाल रहे हो
         पंडितों के इशारों पर
         नाच रहे हो---
        दूब की छोर से
       गंगाजल छिडक
      सैलाब ला रहे हो
     नदी के तटों पर
फैली---
     परछाइयां तुम्हारी
    सुबह को भी
    कलुषित कर रही है
   अंजुलि में भर-जल
  विष अर्पित कर रहे हो
  जो,जीवित हैं--अभी
                      सांझ की बेला में
                     थके-टूटे से—
                    सुस्ता रहे हैं
                   कुछ सांझ उनकी
                  जो---
                 बेहद अंधियारी हैं
       कुछ---
                   रोशन कर दो
                  अपनत्व के दीयों से
                  स्मृतियों के फूल
                 बहा देना---
                दो अश्रु-बूंद—
                अंजुलि में भर
               उनको भी कर देना
                             तिरोहित---
             
                        बस---
                           वर्ष-दो-वर्ष की ही तो बात है

15 comments:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 13 सितम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (13-09-2014) को "सपनों में जी कर क्या होगा " (चर्चा मंच 1735) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  4. Thanks a lot,seeking forward ur apprecition to be better ever.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर


    ReplyDelete
  6. ये वर्ष दो वर्ष ही तो उम्र बन जाते हैं कभी ... न ढलने वाला लंबा काल ...

    ReplyDelete
  7. वाह...सुन्दर और सार्थक पोस्ट...
    समस्त ब्लॉगर मित्रों को हिन्दी दिवस की शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@हिन्दी
    और@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ

    ReplyDelete
  8. सुंदर और भावपूर्ण...

    ReplyDelete
  9. बेहद सुंदर और भावपूर्ण पंक्तियां।
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  10. सादर आभार,टिप्पणियों के लिये.

    ReplyDelete