Friday, 11 November 2011

एक अहसास-पछतापे का,पश्चाताप के आंसू,पलकों पर,सहेजने का

जीवन की पूरी परिभाषा करें और सरल-सहज शब्दों में करें,तो संबन्धों की डोरी में,अहसासों के मोतियों की लडी है,जब चमकती है,अपनी चमक की आभा चारों ओर बिखेर देती है,जब भी हम उन मोतियों को,समय-समय पर साफ करते हैं,उन्हें अपनी स्मृतियों के आंचल के कोमल स्पर्श से छूते रहे हैं.
इस अहसास से,मानव जीवन ही सिंचित नहीं होता,पशुओं में भी इस अहसास को महसूस किया जाता रहा है,बेशकः उनकी पशुता,कितनी ही पाशविक क्यों ना हो.
इन अहसासों की छांव तले,वे भी मानवता के गुणों से भर जाते हैं,तब मनुष्य-पशु के बीच की खाई की गहराई कम हो जाती है.लगने लगता है,ईश्वर ने,इन अहसासों को,सबको समानता के आधार पर बांटा है,भेद हमारी आंखों में रह जाता है,ईश्वर की निगाहें भेद रहित हैं.
      जीवन में,कभी-कभी कुछ घटनाओं के घटित होने के कारण समझ में नहीं आते हैं,हांलाकि,कुछ समय बाद लगता है,यदि ऐसा ना होता तो ये ना होता या ऐसा नहीं होना चाहिये था.
      अपने कुछ संबन्धों की विवेचना जब भी करती हूं,तो लगता है कि यदि ऐसा हो जाता या मैं ऐसा कर पाती तो इन घटनाओं की परिणिति कुछ और ही होती,परंतु बात लौट कर वहीं पर आ जाती है—नियति ने लिखा ही यही था तो ऐसा क्योंकर न     होता?
खैर,प्रश्न-दर-प्रश्न,हमें कहीं नहीं पहुंचाते,या तो ,हम      दार्शनिक प्रश्नों पर उलझे रहेंगे या फिर
दोषारोपण के चक्रव्यूह में घिर कर,अपराधबोधों के बाणों से धाराशायी हो जाएंगे.
      जीवन का स्वभाव,पानी के स्वभाव जैसा जान पडता है—पानी को जिस पात्र में रखें,वह उस
पात्र की शक्ल में परिवर्तित हो जाता है,जीवन को,जितना ही हम उलझाते जांए,वह उलझता जाता है और उलझी हुई ऊन के गोले को सीधा लपेटना शुरू कर दें ,तो ,एक गोले की तरह हमारी मुठ्ठी में आ जाता है.
      बात अह्सासों से शुरू की थी,एक अहसास-पश्चाताप का,उन अहसासों के लिये,जिनको हम वक्त रहते महसूस ना कर पाये और हमारे पास केवल पश्चाताप है,जिसे हृदय के पास थोडी सी जगह
देनी चाहिये,अपनी भूल को,अपने दंभ की तपिश पर,ठंडे पानी की छीटें देने के लिये,ताकि,यह तपिश
हमें भस्म ना कर दे और हम कहने का साहस कर पाएं कि हमें पछतावा है,हमने पश्चाताप के कुछ
आंसू,पलकों पर रख लिये हैं,जिनकी गर्माहट आगाह करती है कि जीवन की राह पर पडे अहसासों के फूलों को दंभ के पैरों से रोंदते हुए ना निकल जाना,कोशिश करना कि उन फूलों को उठा कर
अपनी मुठ्ठी में बंद करने की,ताकि कभी जब हम अकेले रह जाएं तो उन फूलों की महक साथ चल
सके.

15 comments:

  1. सार्थक पोस्ट ... विचारणीय ... स्वयं की पहचान कराती हुई

    ReplyDelete
  2. सुंदर आलेख
    पश्चाताप बहुत जरूरी है

    ReplyDelete
  3. सार्थक लेख ........मन को टटोलने के लिए बढ़िया लेखनी
    पश्चाताप की अग्नि ...जब आत्मा पर भारी पड़ती है तो ....शुद्ध आत्मा सोने के सामान तप कर निकलती है ..-पश्चाताप की आग उसे सोना बना देती है

    ReplyDelete
  4. जीवन को,जितना ही हम उलझाते जांए,वह उलझता जाता है और उलझी हुई ऊन के गोले को सीधा लपेटना शुरू कर दें ,तो ,एक गोले की तरह हमारी मुठ्ठी में आ जाता है.

    वाह कितनी अच्छी बात कही है आपने...मेरी एक ग़ज़ल का शेर है:

    'नीरज' सुलझाना सीखो
    मुद्दों को उलझाना क्या

    ReplyDelete
  5. मनुष्य का जीवन एक महानदी की भांति है जो अपने बहाव द्वारा नवीन दिशाओं में राह बना लेती है।

    ReplyDelete
  6. जीवन का स्वाभाव पानी जैसा ही है...
    सार्थक बात!

    ReplyDelete
  7. अत्यंत सार्थक चिंतन....
    सुन्दर आलेख...
    सादर....

    ReplyDelete
  8. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  9. जीवन के यथार्थ को दर्शाती रचना…बहुत सुंदर…आभार!

    ReplyDelete
  10. ये सच है जीवन को सरलता से लेना ही उचित रहता है ... जो सहज आए उसे ग्रहण कर लेने में जीवन की सार्थकता है ... बहुत ही अच्छा लिखा है आपने ... चिंतन करने योग्य ...

    ReplyDelete
  11. अपनी महक औरों को प्रभावित करे न करे, स्वयं को आनन्द तो देती ही रहेगी।

    ReplyDelete
  12. क्या बात है, बहुत सुंदर लेख

    http://aadhasachonline.blogspot.com/

    ReplyDelete
  13. बहुत सार्थक चिंतन...बहुत सुन्दर विचारणीय आलेख..आभार

    ReplyDelete
  14. बहुत सार्थक चिंतन. सुंदर आलेख...…आभार!

    ReplyDelete
  15. बहुत सारी बातें सीखने को मिली...आभार|

    ReplyDelete