Saturday, 13 June 2015

तो फिर कहां जायेंगे हम???




अब तो, जमीं की तल्खियां
ये,कैसी हुकूमतें----
ये, कौन सी सियासतें---
अब,आसमां को भी चीरतीं
ये,कौन से बटवारे हैं
ये,सौदेबाजियां—
कौन से हकों की
जमीं के,बे-हिसाब छोर
समुंदरों के,बे-खौफ दायरे
गहरी-घटियों की गहराइयां
ऊंची-चोटियों की ऊंचाइयां
रोनके-शहरों की,रोनाकियां
मुर्दा-मरघटों की,मुर्दानियां
पूरे नहीं पडते----???
अब,गर्म-लहू भी
बर्फ हो रहे,बर्फानी से
दाह की आग को
बुझाने के लिये
अब,हिमालय भी दहन हो रहे???
कौन----?
रोकेगा भला अब,
उसको(हिमालय) को भी
पिघलने से---भला?
जमीं तो,रोज टुकडे-टुकडे
बंट रही---
सूनी होती गोदों से
जिंदा जिस्मों की
टूटती सांसो से
गुम होते---आज
अनाथों के—आज से
अधूरी-पीढियों की
अधूरी लकीरों से
और----??/
दहकते-गु्रूर---आ
आसमानों को भी
नंगा कर रहे—
जमीं भी---ओढे
चेथडे—आबरू के
ढूंढती फिर रही है
खोई हुई आबरू को
अपने ही आम्गनों में
जार-जार हुई,यह धरती
अपनों से—तार-तार हुई,यह जमीं
कि----
पूछती है---
क्या,इतना जरूरी है
धधकती गोलियां
लोहों की नालों से
आसमान से---
मिसायली बारिशें???
जिनके के लिये- चलती हैं
जिनके लिये-दागी जाती हैं
उनके ही वजूद—होकर
धुंआ-धुंआ----
शमशानों को उठाकर,जमीं से
खुद,बसा रहा हैं बस्तियां
आसमानों पर---
क्योंकि---
जमीं पट गयी है
मकबरों के खम्डहरों से
शमशानों से उठती राखों से
और--
बहता हुआ लहू—
जो, धुआं-धुआं,हो रहा
अब तो,जरूरत है
चाम्द पर जाने की
कम-से-कम—
उसकी खिडकी से देख लें—
कहां हैं---
लकीरें---
उन लकीरों को,जो
खींची थी हमने,
एक बार तो देख लें
अपनी ही करतूतों को
और---हो रहें,शर्मिम्दा
अपने ही बनाए,शमशानों पर
और---उन आखिरी-इबारतों पर,
लिखी हैं हमने उन पत्थरों पर
गर---
चांद पर,हम जा सके तो
घुप अम्धेरे में
नीली सी एक स्याह-बिंदी
जो सजी है—विस्तार के
ललाट पर---
देख पाएंगे जरूर???
और---
तब---
याद आएंगे बहु्त
कश्तियां-कागजी
चिपकी हुईं,नालों की ओट में
मुहब्बती-पर्चियां---
किसी के कोठे पर—
फेंकी हुई थी,और कहीं
स्वागती-वम्दरबारों से
विदाईए की शहनाइयां
ड्योढी पर रखे धानियारी-कलश को
सिंदूरी-अगूंठे के ठोकरें
याद आएंगी बहुत----???
नसीहतों के टोकरे
आशीशों के लिफाफे
इम्ताजार में होंगे कि,
साथ लेता जाय कोई,उन्हें???
याद आएंगे बहुत---???
वो काफिले,आखिरी मुकाम के
इम्तजार में----
चार कांधों के लिये
गुलमोहरी छांव तले
अमलतास के शोले बुझाते
चमेली के विरबे तले
मुहब्बतों की ठंडाइयां
याद आएंगी बहुत---???
बालों की बेलों में गुथी
बलों की बेलियां
गुलाबी-्चुभन---
दिलों के होती
आर-पार---
चार आंखो की जोडी-दो
दो-हाथों की जोडियां
और—हर-एक आंख
हर एक हाथ
कहता गजल
लिखता गजल
ताज के पत्थरों पर
पढता----गजल
हर-एक बाशिंदा इस जमीं का
मुमताज के चेहरे से उठाता,घूंघट
नूर का----
याद आयेगा बहुत--???
उप्फ़!!!
चांद भी छोटा पड जाएगा
जमीं की इबारतें—लिखने के लिये
फिर,कहां जाएंगे हम???
नहीं----
मंगल की जमीं
गरम बहुत है---अभी.

                 रात नींद में किसी ने कहा---धीरे से,चांद पर चलोगी?
                 मैंने घबराकर कहा---क्या कहा?
                 अभी तो मुझे जाने की जल्दी नहीं है.
                 नहीं—जीते-जी,उसने कहा.
                 तब,ठीक है—मैंने कहा.
                 और,मैं दुबारा सो गयी.
                 सुबह आठ बजे आंख खुली,सो लिखने बैठ गई.
नीली-स्याह सी बिंदी
घुप्प असीमित-अंधेरे में
विस्तार के ललाट पर
यही तो,मेरी जमीं है
दुल्हन—सरीखी---!!!

9 comments:

  1. एक एक शब्द अंतस को झकझोरता हुआ...एक एक प्रश्न ज़वाब के इंतज़ार में ...लाजवाब अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया ..मन को छूती रचना

    ReplyDelete
  3. बहुत सी सुनहरी बातें याद रखने के लिए क्या हम रह भी पायेंगे इस माहोल में ...
    मन को झंझोड़ती है रचना ...

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete
  5. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन योग अब वैश्विक विरासत बन गया है में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    ReplyDelete
  6. धन्यवाद,’और फिर कहां---’को आज की बुलेटिन,’योग अब वैशिक---" में शामिल करने के लिये.

    ReplyDelete