Thursday, 17 July 2014

दग्ध मरु में---मरुद्धानों के पदचिन्ह



प्रिय सहब्लोगर,
करीब तीन वर्ष से अधिक समय से,मैं इस यात्रा में आपकी सहयात्री रही हूं.
सोचा ना था---सफ़र यूं शुरू होगा और सुखद यादों की गुलमोहरी छांव तले अपनी परिछाइयों के साथ जारी रहेगा.
ये परिछाइयां कभी आगे भी हो गईं तो कभी पीछे---और कभी-कभी मैं ही स्वं की परिछाई सी हो गई.
विस्मृत कर रहे हैं आपके उद्गार---जैसे राहों पर बिछ गईं हों अमलतासी झूमरें.
गिनती नहीं करूंगी अब तक की प्रकाशित पोस्टों की----उकेरे गये शब्दों की---स्याही से लिखी गईं पंक्तियों की---
क्योंकि,मालूम है तराजू का पलडा भारी होगा आपके स्नेह व प्रोत्साहन का.
इस यात्रा के साथ-साथ एक और यात्रा जारी है---स्वम की तलाश की.
एक श्रंखला में बद्ध,कुछ पंक्तियों में,अपने  अनुभव---जीवन के आइने में खुद को देखने के,
बांधने की एक कोशिश कर रही हूं---ओशो के साथ-साथ.
नाम दे रही हूं,
                दग्ध मरु में---
                          मरुद्धानों के पदचिन्ह
                                                  मन के-मनके
                                       God  and  Love
Create an aura of love---when you pour love on rocks even rocks are not rocks.
Love is such a miracle----such a magic. Osho

         ठोकरों से आहत
         एक पत्थर—
         राह में---बे-घर सा
         पत्थर था,पत्थर रह गया
         और----जब
        प्यार की बारिशों में---भीग
        एक पत्थर----
       राह से---उठ कर
      बन गया शिव
     मन के---शिवालय में
                              बारिशें---होती तो हैं---
                              पर---
                              मन को करती नहीं—सिक्त
                              क्योंकि----
                              मन की देहरियों को
                              ऊंची-ऊंची करते रहते हैं
                              ईंट-दर-ईंट चिनते रहते हैं—हम
                              डर है कहीं भीग ना जांय-- हम
                              बे-शक----
                             आंसुओं से रोज---
                             भीगते रहते हैं---हम
                             और----
                             खारे-खारे से होते रहते हैं—हम
         नदी के तट----और
         उनके आमंत्रण
         और----
         सागरों की अंतहीन सीमाएं
         हमें----
         अब कोई फर्क डालती नहीं
         क्योंकि----
         जीभ पर---
         तल्खी की दरारें
         गहरी होती हैं---हर रोज
         हमारी तल्खियों से
         खारा है समंदर---
        या कि---
        मीठी है-- धार छोटी सी
        फर्क----
        अब नजर आता नहीं
        हमको----
                                समुंदर----
                               जरूरी भी है----
                              वरना----
                            क्षितिज से झांकता सूरज
                           आहटें--- आने की- देगा कैसे!!
                         और----
                        नारंगियों में नहाता-- सूरज
                       कल आने की--- खबर
                      देगा कैसे!!!
                                          लेकिन---
                                         पहाडों पर---
                                        लाल-पीली-हरी छतों से गुजरती
                                        चुपचाप---
                                       एक धार नन्हीं सी
                                       हर दरवाजे पर पूछती
                                      सदियों से गुजरती है—
                                     गागरें---भरनी हैं???
                                    आंचल सभांलती सी
                                   पाजेब---छमकाती सी
                                  चली जाती है---
                                 चुपचाप—
                                घरों के सामने से
         ओ!
         नीले-विस्तारहीन
         खारे अनंत---
         प्यार--- तुम्हे भी करना होगा
        क्योंकि---
        तुम्हारी छाती में
        छुपा है---
        विस्तार----
        मेरे जीवन का
       ओ!
      घर के दरवाजों से---गुजरती
      मीठी सी—छोटी सी
      धार---
     प्यार--- तुम्हें भी करना होगा
    क्योंकि----
   तुम—
   तृप्ति हो---
  मेरे प्यासे जीवन की
                                      और---
                                      कमनाएं---
                                     पग गईं—
                                    प्रेम की चाशनी में
                                   प्रेम----
                                  झुक गया
                                 श्रद्धा की ड्योढी पर
घंटियां---
बजती हैं कानों में
हृदय में गूंज है
ओंकार की—
सच ही कहा है
बसते हैं---
भगवान—
पत्थरों में भी----        





  

1 comment: