Tuesday, 15 April 2014

कल---एक घर देखा





कल---एक घर देखा
                   पत्थरों की दीवारों में
                   शीशों की खिडकियां
                   खिडकियों के पीछे
                   लोहे की जालियां
                   इन जालियों में
                   जंग खाती,अनुभूतियां, देखीं
कल---एक घर देखा
                 नौकरों की चहलकदमी में
                अपनों की आहटें---           
                गुम होती देखीं
                गर,गुजरती भी---तो
                गर्माहटें तलुवों की
                गुम होती देखीं—
कल----एक घर देखा
                 यहां,इंतजार बुढापों का
                 बीमारियों के लबादे
                 ओढे-ओढे---
                 कंधों की मजबूरियां देखीं
                 बीमारियों से गुजरते
                 इंतजार,अपनो से—
                 छुटकारों का देखा
कल---एक घर देखा
                नामों से तख्तियां,
                 भरती देखीं---
                 वारिसों की पंक्तियों में
                 वंशावलियां देखीं
                 रीते इतिहासों की
                 अंधड सी,रवानियां देखीं
कल---एक घर देखा
               घर में आने से पहले
               जाने का इंतजार देखा
               आने वालों बोझों तले
               अपनों का तिरिस्कार देखा
कल---एक घर देखा
               एक जा रहा था
               धीरे-धीरे----और
               दिल थामें-----
               दूसरा देख रहा था
               इंतजार करते देखा
               अपनी बारी का—
कल---एक घर देखा
                 ऊंची दीवारों के---
                 उस ओर----
                 इतिहासों को----
                 मिटते देखा—
                 नामों की तख्तियों पर
                 नामों को-----
                 मिटते देखा—
कल---एक घर देखा
                 जो नाम बाकी थे अभी
                 सुनामी जैसी---बेताबी देखी
                 उनकी रवानगी में---
                 मजबूरियां देखीं
                              एक---घर ऐसा देखा


                  

                   

6 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (16-04-2014) को गिरिडीह लोकसभा में रविकर पीठासीन पदाधिकारी-चर्चा मंच 1584 में "अद्यतन लिंक" पर भी है।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. घरों की संवेदनाएँ भी कुंठित होती जा रही हैं - समय की गति को क्या कहे कोई !

    ReplyDelete
  3. असल जीवन भी तो इन घर कि चार-दीवारियों के भीतर ही मिलता है ...
    सुख दुःख, जीवन मरण ... इश्वर भी तो यहीं मिलता है ...

    ReplyDelete
  4. आपसे मिलना जीवन के एक सुखद अनुभवों में से एक रहा ... विस्तार से मेल पर लिखूंगा ...

    ReplyDelete
  5. घर देश की एक छोटी इकाई है...जो देश में हो रहा है...वही घर में भी...खूबसूरत प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  6. bahut hi goodh rachna, behtareen tarike se likhi hui.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete