Monday, 22 October 2012

कुछ यूं ही-----


                      मैं,

                            झंझावतों के----

                                    पास से गुजरी,

                                             हर खुशबू को,

                                                      समेटती रही,

आंचल से यूं---कि,

            इन खुशबुओं में,

                       कुछ---

                           तुम्हारा भी वज़ूद होगा,

                                           बेशकः---

कुछ फूलों को,

         बिखरने से,

               बचा न पाई हूं,

                             पर—

खुशबुओं की बाती को,

               बुझने भी नहीं,

                        दिया है---

                              मैने,

आसुओं में रोज,

         तर करती रही हूं,

                    जलती पोरों से,

                             बातियों को,

                                   समेटती भी रही हूं---

                                                   मैं,

तुम्हरी दिवाली में,

           दियों की,

               कतारें हैं----

                       एक दिया---

                              बुझ भी गया,

                                       तो क्या है---

पर,मेरी देहरी पर,

           फ़क्त,एक ही दिया है---

                             इसलिये,

हर दिवाली को,

         रोशन करने के लिये,

पलकों पर-----

           ठहरे आसुओं से,

                     बाती को---

                            भिगोती रहती हूं,

                                        मैं,

हाथों की पकड----

6 comments:

  1. सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  2. आशा की हथेली खोले कृपा की बूँदे टपकने की प्रतीक्षा में।

    ReplyDelete
  3. आपकी पोस्ट बुधवार (24-10-2012) को चर्चा मंच पर । जरुर पधारें ।
    सूचनार्थ ।

    ReplyDelete
  4. nayi shaili, nayi vidha me likhi ye rachna bahut sa dard roshan hote deepawali ke deep tale samaitti chali gayi aur iske marm me chhipe dard ko mehsoos karne se swayam k man ko nahi bacha saki.

    ReplyDelete
  5. विजयदशमी की बहुत बहुत शुभकामनाएं

    बढिया, बहुत सुंदर
    क्या बात

    ReplyDelete
  6. रिश्तों पर ये पकड़ यूँ ही कायम रहे ......सादर

    ReplyDelete