Saturday, 11 June 2011

क्या फ़र्क पडता है---

क्या फ़र्क पडता है,
                                तुम वहां पहुंचे
                                हम, रह गए यहां
कुछ देर बाद,

                               हम भी होगें वहां
                               जहां तुम पहुंचे हो
कोई बात नहीं,
                              गर किताबे-जिन्दगी के
                              हर्फ़ पढे हैं, तुमने कई
हम तो बस,          
                              कुछ लाइनों से ही
                              काम चला लेगें
कभी-कभी,हमसफ़र,
                              साथ शुरू करते हैं,सफ़र
                              कोई ज़रा ठिठक कर
रह गया बीच में,
                             कोई सफ़र का---
                             सफ़रनामा लिख रहा
जिन्दगियों के,
                            फ़र्क-फ़र्क हलफ़्नामे हैं
                            कोई लिख रहा,इबारते-जिन्दगी
तो,कि्सी के नसीब में,
                            फ़कत आई हैं,दो लाइने
                            सारी उम्र पढ्ने के लिए----
                                                                                        ’मन के-मनके
                   

6 comments:

  1. फ़र्क-फ़र्क हलफ़्नामे हैं
    कोई लिख रहा,इबारते-जिन्दगी
    waakai bahut hi achhi rachna hai

    ReplyDelete
  2. उमदा भाव। शुभकामनायें\

    ReplyDelete
  3. बहुत गहरी, मन की इबारत।

    ReplyDelete
  4. तो,कि्सी के नसीब में,
    फ़कत आई हैं,दो लाइनें
    सारी उम्र पढ्ने के लिए----

    -गहरे भाव!!

    ReplyDelete
  5. कहने वालों का कुछ नहीं जाता...सहने वाले कमल करते हैं...

    ReplyDelete