Thursday, 28 July 2016

शुभप्रभात,मित्रों.बात आज के अखबार की.



शुभप्रभात,मित्रों.बात आज के अखबार की.
’मित्र’ एक बेहद खूबसूरत शब्द,यदि महसूस किया जा सके?
आज की बात—
सुबह-सुबह,अखबार हाथ में है,बीच-बीच में,चाय की चुस्कियां भी,
दो मेरीगोल्ड के बिस्कुटों के साथ,और शुरूआत जिंदगी की एक और
सुबह से--
धन्यवाद ’तुझे’ कि एक दिन और दे दिया-रात सोई थी,सुबह जगा दिया,आमीन!!
अब ,देने वाले ने अपना काम कर ही दिया—
क्या हम इस दिन की खूबसूरती बरकरार रख पाएंगे—देखना है,जब शाम सोने जांये??
जिंदगी बहुत खूबसूरत है—यह जुमला कह-कह चले गये-जाने वाले इस दुनिया से,और
जिंदगी बे-हद बदसूरत है-इसे भी कहना पड जाता है-अक्सर??
आइये:
पिछले दो-तीन दिनों की ऐसी खबरों से रूबरू हुआ जाय-जो खास खबर होने का दम-खम नहीं रखतीं-ऐसे गुजर जाती हैं-कि अरे,चलता है—
१.कल मेरी काम वाली-नहीं मेरी शुभचिंतक बेवी आई और हम दौंनो चाय शेअर करते हैं-सुबह की,बेशक मैं चाय पी चुकी होती हूं-जिंदगी शेअरिंग ही है.
सुना रही थी एक घटना-जहां वह रहती है-वहां एक ग्राहक महिला दुकान पहुंचती है-उसे शक है,कि एक किलो चीनी जो उसने वहां से खरीदी थी-तौल में कम है,सो,
उसने दुकानदार से कहा-कि चीनी तौल में कम है—शायद २५० ग्राम.
और,इस २५० ग्राम चीनी में १० लोंगो के सिर फूट गये-एक की मौत हो गयी,
दो-चार अस्पताल में मरने के इंतजार में हैं-पुलिस वाले-तमाशे-हकीकत-उसी की पहरेदारी कर रहे हैं-जिसने सिर फोडे-
ए,जिंदगी,तू २५० ग्राम चीनी की तौल में भी तुलती है???
२.कल के अखबार में एक खबर एक कोने में पडी हुई—
किसी दूसरे शहर में-एक सज्जन तीन भुट्टे खा लेते हैं-भुट्टे वाला पैसे मांगता है.और गोली चल जाती है—बेचारा भुत्टे वाला वहीं ढेर हो जाता है??
कमाल देखिये,भुत्टे खाने वाला भी अपने-आप को गोली मार लेता है.
कसूर किसका-भुट्टे बेचने वाले-भुट्टे खाने वाले का-कि बेचारे भुट्टे का??
पुलिस भी हैरान है.
समझ से परे-हमारी जिंदगी होती जा रही है??
३.आज,सुबह-सुबह मेरे शहर में बादलों वाला मौसम है-रात बारिश हुई है-सब कुछ भीगा-भीगा सा है-कल शाम करीब सात बजे मैं बारिश में घिर गयी थी-होसला लिये घर आ गयी-५ किलोमीटर की दूरी करीब दो घंटों में तय हुई-आ गयी सकुशल-वरना,
हमारे शहरों की सडकें करीब-करीब ६ महीने के हिसाब से बनती हैं-क्योंकि बाकी ६ महीने बैठा तो नहीं जा सकता,काम तो होना ही चाहिये,कर्म में विश्वास रखते हैं-और,माया आनी-जानी है—सो,आती-जाती रहनी चाहिये.
आइये,बात से हट गयी—महज १५ रुपये की देनदारी के लिये कत्ल पति-पत्नि का,-
वाह!! कहने को जी चाहता है??
हम सब संस्कारी लोग हैं-हजारों वर्षों के संस्कार ढो रहे हैं-दमडी को दांतों में दबाए-
जान जाय पर दमडी नाजाय!!
जिंदगी—यह तो ऊपर वाले के हाथ में है-
जब दे दे-और अब ले ले.
मिलेंगे—अगले जनम में.
ईश्वर आपको लंबी उम्र दे!!
हां:
लगता नहीं है दिल मेरा उजडे दयार में,
कोई हसरतों से कह दे कहीं और जा बसें-
लाये थे मांग के दो-चार दिन—
दो आरज़ू में कट गये-
दो इंतजार में—
्फिर भी उम्मीदों के बीज डालते रहिये-
बारिश के मौसम में सम्भावना है-
कुछ तो फूट आएंगे ही,आमीन!!
नमस्कार,आपका दिन मंगलमय हो!!!


2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (30-07-2016) को "ख़ुशी से झूमो-गाओ" (चर्चा अंक-2419) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. Enjoy your friendship day with 20% off on book publishing with OnlineGatha:https://www.onlinegatha.com/

    ReplyDelete