Sunday, 5 May 2013

कभी-कभी---ऐसा भी होता है


              सूखी माटी को----
              आशाओं की बारिश से सिक्त करती रही---
              सपनों की रंगों की, कूची से
              रंग, भरती रही---आने वाले कल के
                          कुछ बीज---प्रारब्ध के थे
                          कुछ---वक्त के झोंकों ने भी
                          जो,बिखरा दिये थे---आंगन में, मेरे
                          उनको भी---चुन-चुन,बोती रही
             कुछ बीज---दो पाती के साथ ही
             कुमल्हा गये----हालांकि,
             रंग तो भरा था---सुर्ख-हरा---
             पता नहीं क्यों! पीले हो गये
                        कुछ बीज---दो पाती को ओढ
                        पाती की चादर को ओढ---
                        फैल गये---मेरे केनवास पर
                        चलो,कभी ऐसा भी होता है---
                        मैं,खुश थी----
                        कुछ खोना ही था---कुछ पाने के बाद
            पाती की शाखों पर-----
            वक्त के बौर भी, बौरा रहे हैं
            सुबह से शाम तलक---
            प्यार की मनुहारों का---मेला भी था
                       तितलियों ने,पंखों में,रंग भर
                       रंगों को, और भी नाम---दे दिये थे
                       कुछ नये प्यार को----
                       नये---अंजाम दे दिये थे
            हर दिन---,
            केनवास पर---रंग बिखरते रहे
            कुछ रंगों की तो, पहचान थी,मुझे---
            पर,कुछ रंग, ऐसे भी थे----
            जिनकी पहचान----
                      भंवरों की गुन-गुन---
                      तितलियों की,आंख-मिचोली
                      बौरों की बौराई----
                      कानों में---मेरे
                      चुपचाप कह गये
           हर दिन----
           केनवास पर---रंग बिखरते रहे
           उंगलियों में,रंगों की कूची थामें
           सपनों में भी---रंग,ढूंढती रही
           सुबह होते ही---
           केनवास पर---रंग,बिखरते रहे
                      एक दिन---
                      आंख खुली तो----
                      कुछ पत्ते---पीले-पीले से लग रहे थे
                      पातों की शाखों पर----
                      भंवरों की गुन-गुन भी,कम हो गई
                      तितलियों की आंख-मिचोली का खेल
                      अनमना सा---लग रहा था
                      बौरों की बौराई भी---उनींदी सी हो गई थी
           सोचा----
           कोई बात नहीं----
           कभी-कभी---ऐसा भी होता है
           गर्म हवाओं के झोकें---
           बौरों की बौराई---कहीं ले गये हों
           कल सुबह---ठंडी हवा के झोंके,उन्हें
           वापस ले आएंगे---
                        क्योंकि,
                        कभी-कभी---ऐसा भी होता है
           रात सपनों में,रंगों को सहेजती रही
           उंगलियों में---सपनों के रंगों की, कूची थामें
                         जब----
                         रंगों को भरने चली---
           तो---
           जो पाती---पीली थीं
           शाखों से झर गईं थीं
           उनकी जगह---कुछ और पाती
           और भी, पीली-पीली हो गईं थीं
           शाखों के नीचे---कदमों के तले
           पीली पत्तियां---चरमरा रहीं थीं
                             वो आवाज---
                             भंवरों की गुन-गुन, तो, न थी
                             बौरों की--- बौराई भी न थी
                             तितलियां भी---तितर-बितर,हो रहीं थीं
                             पंखों के रंग---नये नामों को---बिसरा रहे थे
           अब---
           नींद तो, गहरा गई है
           पर---
           सपनों की, आवाजाही
                            अब---
                            दस्तक कम दे रही है
           जो---
           कुछ कदमों की आहट
           ठहर भी जाती है
                           मेरे---
                           सपनों की ड्योढी पर
           पर---
           बे-आवाज ही लौट जाती है
                           सुबह---
                           जागती हूं---
                           थामें---उंगलियों में
                           सपनों के रंगों की कूची
           केनवास पर----
           बिखरते-बिखर
           हर रंग---
           पीले पडते चले जाते हैं
                           अब---
                           हर रंग का,बस एक ही नाम है
                           हर रंग की, बस एक ही पहचान है
          जो---
          पीली-पाती पर, लिख
          अगली सुबह---
          शाखों के नीचे
          कदमों तले
          बिखरी स्याही की नाईं
          फैल जाएंगे----
                           और----
                           भंवरों की, गुन-गुन
                           तितलियों की आंख-मिचौली
                           बौरों की बौराई----
                           सब----
                           चरमरा जाएंगे---
         क्योंकि----
         कभी न कभी---ऐसा भी होता है
                                  होना ही था---
           



7 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    साझा करने के लिए आभार...!
    --
    सुखद सलोने सपनों में खोइए..!
    ज़िन्दगी का भार प्यार से ढोइए...!!
    शुभ रात्रि ....!

    ReplyDelete
  2. क्योंकि----
    कभी न कभी---ऐसा भी होता है
    होना ही था---

    सच कहा....होना ही था!!

    ReplyDelete
  3. यूँ ही जीवन ताने-बानों के बीच होकर चलायमान बनी रहती है ...मनोभावों की सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete

  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (08-04-2013) के "http://charchamanch.blogspot.in/2013/04/1224.html"> पर भी होगी! आपके अनमोल विचार दीजिये , मंच पर आपकी प्रतीक्षा है .
    सूचनार्थ...सादर!

    ReplyDelete