Tuesday, 14 May 2013

एक घरोंदा---यूं ही नहीं बनाया था

                  मैंने भी,एक घरोंदा---यूं ही नहीं बनाया था
                 खिलौनें तो---बहुत और भी थे,
                खेलने के लिये                     144.jpg
               इसको,खिलोना समझ----मैंने
               खरीदा नहीं था,छीना भी नहीं था,
               किसी और से----
                         मेरे वज़ूद से---कतरा-कतरा,होते रहे
                         दिन-रात से,हर एक सपने---मेरे सहर के
                         सपनों को,ईंटों की तरह---चिनती रही
                         इंतजारी गारे से जोड,दीवारें खडी,करती रही
                         बे-खबर थी-----अनजान थी
                         सपने तो सपने,होते हैं, और कुछ भी नहीं
               कहीं---किसी को---कहते सुना था
               कल सुबह की होन में----
               एक सपना देखा था,कि---
               एक टुकडा---आंगन में,आ गिरा,चांद का
               और----वो सच था
               गोद में,एक टुकडा, चांद का
               सो रहा था----चांदनी बिखरी हुई थी
                          मैंने भी,सोचा---चाहा था
                          सपनों की,ईंटों को,चुन-चुन---
                          प्यार का एक घरोंदा---मैं भी बना लूं
                          फिर उस सपने को----
                          सुबह की होन में----
                          जागते हुए---खुली आंखों से----
                          मैं भी---देख लूं
               और---एक घरोंदा,प्यार का
               टूटे नहीं---बहानों की चोट से
               नकारा न हो जाए---बाजार में
               और,प्यार का घरोंदा
               जमुना्यी(जमुना नदी का किनारा)आंसुओं के किनारे
               ताज सा---संगमरमरी हो जाय
               शरदपूर्णिमा की,चांदी सी रात में
                            यह घरोंदा----प्यार का
                            मैंने,यूं ही नहीं बनाया था
              पर--------
                           शरदपूर्णिमा की----
                           चांदी सी रात---
                           हर पाख---बिखरती रही
                           मैं,जमुनायी आंसुओं के किनारे बैठी
                           संगमरमरी ताज बनने का---
                           इंतजार----करती रही
             पर-------
                          ताज को गढने के लिये---
                          एक, शाहेजहां--- कहां था?
                          मुमताज तो---कफ़्न में दफ़्न थीं---
                          झरोंखों से निहारता-----
                          दफ़्न होता---
                          शाहेजहां---वहां,था ही नहीं---
                          

3 comments:

  1. लाजवाब !!!

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  2. जब हमारा वजूद का तिनका तिनका इकठ्टा होता है तब ही तो बनता है घरौंदा ।
    आपकी लेटेस्ट पोस्ट बी बहुत अच्छी लगी पर उस पर टिप्पणी नही कर पाई ।

    ReplyDelete
  3. आशा है आपका स्वास्थ ठीक होगा ... काफी समय से आप ब्लॉग जगत में उपस्थिति दर्ज नहीं कर रहीं हैं ...

    ReplyDelete