Wednesday, 7 December 2011

कभी-कभी

कभी-कभी,
       ये यादें,उदास क्यों हो जाती हैं?
       सूने तकिये पर,सिर रख कर—
       छत,क्यों निहारती हैं,
       और,घर से निकल, आ जाती हैं,सूनी पगडंडी पर
कभी-कभी,
       ये यादें, उदास क्यों हो जाती हैं/
       कमरे से,बाहर आकर---
       खडी हो जाती हैं,
       बालकनी की रेलिंग से टिक कर
और, आसमान के खालीपन में खो जाती हैं
कभी-कभी,
       ये यादें,उदास क्यों हो जाती हैं?
       अपनों की हथेलियों को थाम
       उनकी गर्माहट में भी,
      ठंडी सी हो जाती हैं—
      और, आंखो की कोरों से टपकी
      बूंदे बन जाती हैं—
कभी-कभी,
       ये यादें-----

25 comments:

  1. yaadein aisi hin hoti hai, kabhi sunepan se taakti ghabraati hai to kabhi kuchh mithi yaadein jivan ke khaalipan ko bharti hai. yaadein to yaadein hain, aankhon mein paani ban tapakti hai. sundar rachna, badhai.

    ReplyDelete
  2. यादें हमें हमारी निजता में खींचकर ले जाती हैं, चुपचाप बतियाने के लिये।

    ReplyDelete
  3. उदासी भी कुछ न कुछ अपने आप में बात करती है ..सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल आज 08 -12 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... अजब पागल सी लडकी है .

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति है आपकी.
    संगीता जी की हलचल ने यहाँ तक पहुँचाया.
    आपका आभार.
    संगीता जी का आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete
  6. वाह ....बहुत बढि़या।

    ReplyDelete
  7. ये यादें,उदास क्यों हो जाती हैं?
    अपनों की हथेलियों को थाम
    उनकी गर्माहट में भी,
    ठंडी सी हो जाती हैं—
    और, आंखो की कोरों से टपकी
    बूंदे बन जाती हैं—....बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..
    मेरी नई पोस्ट 'यादें ' पर आप का स्वागत है..

    ReplyDelete
  8. लाजवाब रचना है मन को उदासी के कोहरे में लपेटती सी ! यादों की फितरत होती ही है ऐसी जो सुबहो शाम के हर लम्हे को उदासी के अर्क में मेरीनेट कर जाती है और जीवन के स्वाद को बदल देती है ! बहुत ही सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  9. यादें तो हमेशा ही रुलातीं है ..मन के भावों का खूबसूरत चित्रण

    ReplyDelete
  10. to jara rasta badal diya kijiye na in udas yadon ka apne aap hi udasi peechhe chhoot jayegi.

    gehen, sunder abhivyakti.

    ReplyDelete
  11. gahare bhavo ko darshati ati uttam rachana hai...

    ReplyDelete
  12. यादें उदास हो जाती हैं ... अच्छा प्रयोग। मन को भिंगोती रचना।

    ReplyDelete
  13. अपनों की हथेलियों को थाम
    उनकी गर्माहट में भी,
    ठंडी सी हो जाती हैं—
    और, आंखो की कोरों से टपकी
    बूंदे बन जाती हैं—
    कभी-कभी,
    ये यादें-----

    man khush ho gaya padh ker... halchal ne yahan tak pahuchaya... kabhi mere blog mei bhi aiyae...achha lagega...

    ReplyDelete
  14. स्मृतियाँ बहुत बार आँखें भिगो जाती हैं ...यूँ ही चुपचाप ....

    ReplyDelete
  15. इस पोस्ट के लिए धन्यवाद । मरे नए पोस्ट :साहिर लुधियानवी" पर आपका इंतजार रहेगा ।

    ReplyDelete
  16. मन का आरोपण बाहरी आलंबन पर .अच्छी रचना नया आलंबन लिए .

    ReplyDelete
  17. मन के भावों खुबशुरत चित्रण ,...सुंदर पोस्ट ...
    मेरी नई रचना........
    नेताओं की पूजा क्यों, क्या ये पूजा लायक है
    देश बेच रहे सरे आम, ये ऐसे खल नायक है,
    इनके करनी की भरनी, जनता को सहना होगा
    इनके खोदे हर गड्ढे को,जनता को भरना होगा,

    ReplyDelete
  18. बहुत खूब....
    आपके कुछ लेख भी पढ़े...बहुत अच्छे लगे.
    सादर.

    ReplyDelete
  19. लगता है आपको मेरे ब्लॉग पर आने में संकोच है जी.
    'मन के मनके' का विस्तार ही है मेरा ब्लॉग.
    फिर संकोच कैसा.

    ReplyDelete
  20. मन अक्सर भूतकाल में ही जीता है। इसलिए,ज्ञानी लोग वर्तमान में जीने की सलाह देते हैं ताकि भविष्य को उसकी पूर्णता में जिया जा सके।

    ReplyDelete