Saturday, 24 June 2017

’जहां मैं हूं— वहां विरोधाभास है— मैं ही तो--- विरोधाभास हूं—’



                    शुभप्रभात मित्रों,
                   सुबह-सुबह ही लिख पाती हूं,
                   कुछ कह पाती हूं-
                   ’कोटेज एंड केफ़े’ एक संकलन
                   हिंदी कविताओं का,’ अनुराग’ की बातें-
                   दिल की बातें—
                   एक कविता चुनी है-
                   ’विरोधाभास’—
                   ’बदलाव मैं चाहता हूं
                    पर,किसी को बदलना नही
                 ----
                     जैसे कोई सूरज को चाहे
                     जलना नहीं--
                    
                     और—
                     ’जहां मैं हूं---
                     मैं विरोधाभास ही तो,
                     मैं ही हूं--इसलिये कि,
                     विरोधाभास
                               
                          सरलता से कही गयी, गहरी बात!!
                           वैसे तो जीवन से लेकर मृत्यु तक-
                           सुबह से लेकर शाम तलक-
                           हर बात से लकर हर बात तलक-
                           विरोधाभास की छांव-धूप बिखरी हुई है.
                           कही जीवन की कुलबुलाहट तो कहीं
                          म्रूत्यु का क्रंदन,आंसुओं के सैलाब तो
                          मुस्कुराहटों के इंद्रधनुष—
                         यही है जीवन—और यहीं हैं हम!
                         थोडे से शब्दों में,बगैर छंद-तुक में बंधे
                        अपनी बात कह दी—और
                        एक बात कह दी, जो सभी की है.
                        ’जहां मैं हूं—
                         वहां विरोधाभास है—
                          मैं ही तो---
                          विरोधाभास हूं—’
                                  सुंदर!!!
 े
 अनुराग गुप्ता: केेफ़े एंड कोटेज,एक संकल हिंदी कविताओं का.

3 comments:

  1. मेरी शुभकामनाए सदैव साथ हैं.

    ReplyDelete
  2. एहसासों को बखूबी उतारा है शब्दों में....

    ReplyDelete