Tuesday, 26 October 2021

                                              

                                                                     मनुष्य  एक  बीमारी   है---

        मनुष्य  एक  बीमारी  है. मनुष्य  को  छोड़  कर  और  कोइ  पशु  पागल  होने  की  क्षमता  नहीं  रखता  है.

        कोइ  पशु  ह्त्या  नहीं   करता  ,  आत्महत्या  नहीं  करता.

       यही  उसकी  खूबी  भी  है ,यही  उसका   दुर्भाग्य  भी  है.

       इसी  रोग  ने  मनुष्य  को  सारा  विकास भी  दिया  क्योंकि,  इस  रोग  का  मतलब  है,  हम  जहां  हैं,

       वहां   राजी  नहीं   हो  सकते.

       एक  कहानी  से  इसा  बात  की  शुरूआत  करते  हैं और  समापन  भी  करते  हैं.

      एक  पागलखाने  का  परिदृश्य  यूं  चल  रहा  है---

     एक   कठघरे  में  एक  पागल  सींकचों  में  बंद  है, एक  तस्वीर  को  अपने  सीने  से लगाए  हुए ,कुछ  गीत  गा      रहा   है.

     पूछने   पर  पता  चला--कि, इसको  किसी स्त्री  से  प्रेम  था  वो  इसे  मिला  नहीं  पाई  और यह  पागल हो  गया.

     दूसरे  सींकचे  में  बंद  दूसरा  पागल  सींकचों  में  सर  मार रहा  था,जोर,जोर से रोये  चला  जा  रहा  था.

    पूछने  पर  पता  चला--इसको  वही  स्त्री  मिल  गयी  जो  पहले  पागल  को नहीं  मिल  पाई  थी.

   

     आदमी  सब  बीमारियों  से  मुक्त  हो  कर  भी  ,आदमी  होने  की  बीमारी  से  मुक्त  नहीं  हो  पाता.

     ओशो से लिया  गया, साभार  सहित.












Monday, 25 October 2021

 

                                                      पीले  फूलों  वाला  घर

घर बे-आवाज , बे- जान  अहसास नहीं है.

एक, एक कोना बोलता  है.

एक,एक खिड़की  को  इंतज़ार है कि, अब खुले  कि,  कब  कोइ  पास खड़ा हो किसी  के  इंतज़ार  में  कि, दरवाजे  भी  आतुर  रहते  हैं,  खुलने के  लिए.

किसी   का  इंतज़ार , उन्हें  भी है ,और वो  पीले  फूल  महकते  हैं, किसी  के  लिए.


मैं, पीले  फूलों  वाला  घर  हूँ .

                पूरब  के  कोने  में

                तुलसी  का  बिरवा  है

                बिरवे में  दीये  का  साया  है

                साए  में  जीवन  की  गाथा  है

मैं,  पीले  फूलों  वाला  घर  हूँ.

                 घर  की  दीवारें  पीली  हैं

                 दीवारों  पर  लाल  कंगूरे  हैं

                  लाल  कंगूरों  से  लिपटी  

                  अंगूरों   की  बेलें  हैं

मैं,  पीले  फूलों  वाला  घर  हूँ.

                  साँसों   के  अहसास  भरे

                   घर  में  कुछ   कमरे  हैं 

                    एक  कमरा  खाली  है

                    एक  साया  अहसासी  है

मैं,  पीले    फूलों  वाला  घर   हूँ.

                    दीवारों   से  सिमटे  

                    जाली  के  दरवाजे   हैं

                     दरवाजों   से  सिमटी  आँखों में

                    सिमटी,  कल  की  आशाएं  हैं

मैं,  पीले  फूलों  वाला  घर  हूँ.





Thursday, 21 October 2021

                                             

                                                                कुछ  स्वर्ग 

                                            कुछ  स्वर्ग--

                                                जेबों  में  पड़े

                                               खोटे  सिक्कों  की  तरह

                                                कुछ  देर  ही

                                                 खनकते  हैं,बस--

                                                                   कुछ  स्वर्ग----

                                                                    यादों  में  बस

                                                                     ता- उम्र---

                                                                     रहते  हैं,हमसफ़र!!!


आइये, दशहरा   चला  गया, दीवाली को कह कर----

जल्दी से पहुँचना लोगों  की जिन्दगी में,अन्धेरा ज्यादा  ना घिर आए  कहीं.

घर,घर  दीप  जला  देना,स्वाद मिठाइयों के भर  देना  सबके  मुंह  में,,क्योंकि  बहुत अन्धेरा  घिर आया  था, कुछ और  ज्यादा  उजाला ले  कर  जाना ,इस बार,  कुछ और  ज्यादा   मिठास  भर  देना जिंदगियों  में,  धन्यवाद.

 आइये, याद करते  हैं--साथ,साथ उन दशाहरों को,  उन  दीवालियों को---

                                                          दशहरा  जब  आता  था---

                                                          गली,  मोहल्ले  ,नुक्कड़, नुक्कड़

                                                         सीता,  राम,लखन भय्या

                                                        उनके  साथ  भक्त  हनुमान

                                                         रावण  ,कुम्भकर्ण  का  वध  करने

                                                         ले  अवतार  ,प्रगट  हो  जाते  थे.

                                                       जब,  तरकश  से  बाण छोड़

                                                       दुर्जन पर  करते  थे,वार,  राम

                                    तब,---

                                                       एक, एक  वार  पर

                                                      होते  थे , लख , लख

                                                        उदघोष ,राम .

                                  अभी,---

                                                     दशहरा  विदा हुए  नहीं, घरों  से

                                                     लडियां  दीवाली  की

                                                      टंक  गयीं ,घरों  में

                                                      मिट्टी  के  छोटे,  छोटे  दीयों  में

                                                      लगीं  दमकने

                                                      भीगी  बातीं  , तेलों  में.

                                                  

                                                      घर , घर , रिश्तों , नातों  का

                                                      आना,  जाना  रहता  था

                                                       बेसन  के  लड्डू  और  इमारती

                                                        घर  , घर,  थाला  सजातीं

                                                         थाल  भरा,  मिठाई  का

                                                          भर  ,  भर, खाली  होता  था.


              अब---  दृश्य  बदल  गए  हैं.वक्त जो  आगे  चला गया.


                                              दूर  खडी  पांत  समय की

                                              लगती  है,इन्द्रधनुष सी ,क्यूं?

                                             आज---

                                            धूप ,चांदनी सी, जीवन की

                                           लगती , अंगारी  सी  क्यूं?

                                           एक ,धूप  का फैला  आँचल

                                          कर  जाता---

                                          मन  को  घायल ,क्यूं?

                                           एक  , धूप  बबूल कटीली  सी

                                          बन  जाती , मां  का  आँचल  ,क्यूं?

          

                मेरी  पुस्तक-- बिखरे  हैं , स्वर्ग  चारों  तरफ---से चुनी  गयीं ,कुछ पंक्तियाँ.

                आशा  है,,पसंद  आएंगी.



Monday, 18 October 2021

                            

                                                    ' जिन्दगी '--एक  बात  छोटी सी-----

              

                        ' जिन्दगी '  को  जितना  खींचो,खिचती चली  जाती  है.

                            और, एक  कप  में   चाय कुनकुनी  भर  लें, फूँक,फूँक  कर  पी  लें

                             तो, जिन्दगी एक  कप  में  सिमिट  आती  है--'जिन्दगी'.

                             ' जिन्दगी'

                           एक  आहट  है  आने  की  एक  आहट  जाने  की,छोटी  सी.

                          बीच का  तामझाम तो  बस  चाय  का  खदकना  भर है.

                          चलें---

                                                          'जिन्दगी' एक  बात  छोटी सी--

 

                                               एक  आहट है

                                              आने  की

                                              एक आहट है

                                              जाने की,  छोटी सी

                                               जिन्दगी.


                                                                    धुंध के  आगोश  में

                                                                     सिमिट  जाती  हैं,कायनातें

                                                                     तब,  ' तू ' याद  आता है,मुझे

                                                                     कुछ  इस  तरह,यूं.


                                               शिकायतों  की  उलझनें

                                              उम्मीदों  के  मकडजाल,और

                                              हम,  कैद  हैं

                                            ना-उम्मीदी  की  कैद में.

                                                 क्यूं?


                                                               जो--

                                                               एक  प्याली  चाय  पी,तेरे  साथ

                                                               फूँक,फूंक  कर--

                                                               बस,

                                                              इसी  गर्माहट में  तर 

                                                               मेरा  हो,एक  और  कल.

                                           और---

                                           एक  प्याली  और ,

                                           खदकती  रहे,चूल्हे पर

                                          ' तेरे '  इंतज़ार  में.


                                                                            ' जिन्दगी '--

                                           एक  बात  छोटी  सी

                                          प्याली में  उडेलना

                                          फूँक, फूँक,घूँट,घूँट

                                          पी लेना,भर है.

                                                                 ' जिन्दगी '  एक  बात  छोटी  सी.








  



Sunday, 17 October 2021

             

                                                         कोई  तो  है---                                                        

              १. हम  एक  प्रोग्राम  हैं जो  किसी  अदृश्य  कमप्यूटर  पर  डाउन लोडेड  हैं.                 

              २. 'कौन'  है  वह  जो हमें  कोड़ा-डिकोड-डिलीट कर  रहा  है?

               ३. क्यों कर  रहा  है?


                ४,  जिस यन्त्र  पर  कर  रहा  है  वह  कैसा  दिखता  है--

                      विशाल, सूक्ष्म, अदृश्य ,माया,अमाया  या कि,  जादू  की  पुडिया?  

             हम  सभी  के  मन  में  ऐसे  विचार कभी  ना कभी  उठाते रहे  होंगे,समुद्र  की  लहरों  की  भांति--

               क्योंकि,  हम सभी  एक ही  महासागर  की  उठती, गिरती लहरें हैं.


                  दूसरा  पन्ना  पलटते  हैं--

        १. यह  निश्चित दिखता है--हम सब बुद्ध नहीं हो सकते और एक से अधिक भी नहीं  हो  सकते.

        २. यह भी  निश्चित  दिखता  है  कि--हम  सभी  अंगुलिमाल भी  नहीं  हो  सकते  हैं  वह दस्यु  जो  मानव-ह्त्या 

            कर  उनकी  अँगुलियों  की  माला  गले  से  उतार  कर ---बुद्ध के  चरणों  में  बैठ  सका.

            हममें  से कई  भी  अंगुलिमाल  नहीं  हो  सकते  हैं.

          मैंने  स्वम  से  पूछा----अशोक  के  सन्दर्भ  में---

  १.   जब  इतना  विशाल  साम्राज्य था  तो,कलिंग  पर  आक्रमण क्यों?

   २.  बुद्ध  की  शरण  में   आना  था  तो  सीधे  रास्ते  चल  कर  क्यों  ना  आ  गए--अशोक?

         मैंने  स्वम  ही  अपने  प्रश्नों  के उत्तर  यूं   दिए---

      १.  जब  तलक  विनाश  लीला  ना  होगी,  सृजन   ना  होगा   कभी.

      २. 'बीज'  चाहे  कर्म   का  हो  या  विचार  का, बगैर तपिश  ,बगैर  अन्धकार  के फूटते नहीं  हैं.

           तभी,  सत्कर्म  के  फूल  खिलते  हैं.

          पुण्य  के  विचार  महकते  हैं.







 




         १.







                                                                   


Saturday, 16 October 2021

                                               

                                          क्या  फर्क पड़ता  है---

 एक शब्द जिसने बहुत 'फर्क' डाले हैं--सीधी,सादी जिन्दगी में.

सही है--फर्क  पड़ता  है  ,लेकिन  फर्क  को   इतना ही वजन मिले कि, जिन्दगी  की  रफ़्तार  जिन्दगी  से  आगे ना  निकल जाए , बाकी  तो  सफरनामे  हैं ---चलें,


                                                 क्या  फर्क  पड़ता  है

                                                  तुम पहुंचे  वहां,और

                                                   हम  यहाँ  रह  गए

                                                   कुछ  देर  बाद,

                                                   हम  भी  होंगे  वहां

                                                   तुम,  पहुंचे  हो जहां.

                                                                           कोइ  बात  नहीं,गर

                                                                           किताबे-जिन्दगी  के  हर्फ़

                                                                           पढ़े  हैं,तुमने  कई

                                                                           हम तो बस-

                                                                            कुछ लाइनों  से  ही

                                                                             काम  चला  लेंगे.

                                             कभी,कभी  हमसफ़र 

                                             शुरू  करते  हैं ,साथ  सफ़र

                                             कोई ज़रा  ठिठक कर

                                             रह  गया  बीच  में--

                                              कोई  लिख  रहा ---

                                             सफरनामा     सफ़र  का.


                                                                             जिंदगियों  के--

                                                                             फर्क, फर्क हलफनामें  हैं

                                                                              कोइ  लिख रहा--

                                                                              इबारत-ए-जिन्दगी

                                                                              किसी  के  नसीब में आईं हैं

                                                                              दो  लाइनें--फ़क्त,पढ़ने  के  लिए.

                                      क्या,  फर्क  पड़ता  है.





-


Saturday, 25 September 2021

एहसास दोस्ती का

                                                          एहसास दोस्ती का

आज दोस्ती के मायने बदल गए हैं आज दोस्ती के मकसद होते हैं मकसद पूरा होने पर दोस्ती के मतलब बदल जाते हैं
न जाने कहाँ खो गया वो दोस्ती का एहसास जो बचपन में हुआ करता था निश्छल और निष्कपट,
दोस्तों से लड़ते झगड़ते फिर एक हो जाते |
ऐसे ही कुछ एहसासों को मेने अपनी इस विडिओ के माध्यम से कहने की कोशिश की है,
उम्मीद कराती हूँ आपको ज़रूर पसंद आएगी